Government Job News Update,SSC, UPSC,UPPSC, Entrance Exam

Wednesday, 4 January 2017

UP election Model Code of conduct adrsh achar sanhita Chunav 2017

State election commission has published the official adrsh achar sanhita for Upcoming up Assembly election 2017. After completing the Chetra panchayat election for BDC , block pramukh , Zila panchayat election for Zila panchayat sadasya and zila panchayat Adhyaksh , Chunav ayog of  uttar pradesh started the preparation of vidhan sabha Chunav. Election commission will publish the Time table and election schedule for Upcoming state assembly election.
model code of conduct will be imposed from 4 January 2017. recently election commission order to the officer of Up govt that don’t transfer any  officer without notifying ECI UP. UPEC now started the transfer process for those offices who are working more than 3 year in one districts. 
If code of conduct will be applicable then government will not able to do any transfer till the completing election. So its sure that transfer of administrative officer and teachers will defiantly effected.
Voting (Matdan ) for Vidhan sabha Chunav  will be completed in 7 phases.  Its   election will be completed on 15 march 2017.  election commission will conduct MLA election in 7 phases from 11 February to 15 march 2017.
As soon as we get official notification of code of conduct and Date of upcoming election in UP , it will be uploaded here by Upjob.in so you can subscribe you emails for receiving the latest News updates.
 UP election Date Chunav Notification Form 2017 Updated

Latest News Update in Hindi
 UP में 11 फरवरी से 7 चरण में वोटिंग, गोवा-पंजाब में 4, उत्‍तराखंड में 15 फरवरी और मणिुपर में 4 मार्च को मतदान, नतीजे 11 मार्च को
चुनाव आयोग  ने पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों का ऐलान किया. यूपी, गोवा, उत्तराखंड, मणिपुर और पंजाब राज्य में चुनाव होने हैं. मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने तारीखों का ऐलान किया.
गोवा चुनाव (40 सीटें) में नोटिफिकेशन 11 जनवरी, लास्ट डेट नोमिनेशन 18 जनवरी बुधवार, स्कूटनी 19 जनवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 21 जनवरी, 4 फरवरी 2017 शनिवार को मतदान.
पंजाब चुनाव (117 सीटें) 11 जनवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 18 जनवरी, स्कूटनी 19 जनवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 21 जनवरी, 4 फरवरी 2017 शनिवार को मतदान. 
उत्तराखंड चुनाव (70 सीटें) 20 जनवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 27 जनवरी, स्कूटनी 28 जनवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 30 जनवरी, 15 फरवरी 2017 को मतदान.
मणिपुरचुनाव (60 सीटें) पहला फेज ( 38 सीटें) 8 फरवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 15फरवरी , स्कूटनी 16 फरवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 18फरवरी, 4 मार्च 2017 को मतदान.
दूसरा फेज ( 38 सीटें) 11 फरवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 18 फरवरी , स्कूटनी 20 फरवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 22फरवरी, 8 मार्च 2017 को मतदान.
 
उत्तर प्रदेश (403 सीटें) सात चरणों में चुनाव
पहला चरण (73 सीटें, 15 जिले) 17 जनवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 24 जनवरी , स्कूटनी 31 जनवरीतक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 27 जनवरी, 11 फरवरी 2017 को मतदान.
दूसरा चरण (67 सीटें, 11 जिले) 20 जनवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 27 जनवरी, स्कूटनी 27 जनवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 30 जनवरी, 15 फरवरी 2017 को मतदान.
तीसरा चरण (69 सीटें, 12 जिले) 24 जनवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 31 जनवरी, स्कूटनी 2 जनवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 4फरवरी,  19 फरवरी 2017 को मतदान.
चौथा चरण (53 सीटें, 12 जिले) 30 जनवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 6फरवरी , स्कूटनी 7 फरवरीतक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 9फरवरी,  23 फरवरी को मतदान
पांचवां चरण (52 सीटें, 11 जिले) 2 फरवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 9फरवरी, स्कूटनी 11 फरवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 13 फरवरी,  27 फरवरी को मतदान
छठा चरण (49 सीटें, 7 जिले) 8 फरवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 15फरवरी, स्कूटनी 16 फरवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 18 फरवरी,  4 मार्च को मतदान
सातवां चरण (40 सीटें, 7 जिले) 11 फरवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 18फरवरी, स्कूटनी 20 फरवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 22 फरवरी,  8 मार्च को मतदान 
11 मार्च को सभी राज्यों के मतों की गिनती होगी और सभी राज्यों के परिणाम आएंगे.
 
 ईवीएम में इस बार चुनाव चिह्न के साथ प्रत्याशी की तस्वीर भी लगाने की व्यवस्था की गई है. यह भी व्यवस्था की गई है कि वोटर यह देख सके कि उसने किसको वोट दिया है. यानि एक स्लिप भी निकलेगी. जैदी ने बताया कि पोस्टल बैलेट की जगह इस बार ई-वोटिंग की व्यवस्था की गई है.
जैदी ने कहा कि गोवा विधानसभा का कार्यकाल 18 मार्च 2017, मणिपुर का 18 मार्च 2017, पंजाब 18 मार्च 2017, उत्तराखंड का 26 मार्च 2017 और उत्तर प्रदेश विधानसभा का कार्यकाल 27 मई 2017 को समाप्त हो रहा है.
उन्होंने बताया कि 100 प्रतिशत वोटरों के पास वोटर आईडी कार्ड हैं. इन पांच राज्यों में 16 करोड़ मतदाता वोट डालेंगे. पांच राज्यों में 690 विधानसभा सीटें हैं. कुछ 23 सीटें रिजर्व सीटें हैं. इन इलाकों में 1.85 लाख वोटिंग स्टेशन होंगे. ईवीएम का प्रयोग सभी राज्यों में होगा. जिन इलाकों में महिलाओं पुरुषों के साथ असहज हैं वहां पर उनके लिए अलग पोलिंग बूथ की व्यवस्था की जाएगी.
चुनाव आयोग ने बताया कि सभी मतदाताओं को फोटो वाली वोटर स्लिप दी जाएगी. साथ ही चुनाव आयोग इस बार वोटर गाइड का प्रयोग करेगा जिसके जरिए सभी को मतदान के दौरान क्या करना है क्या नहीं करना है बताया जाएगा. उन्होंने बताया कि वोटिंग कंपार्टमेंट की ऊंचाई को बढ़ाया जाएगा.
उन्होंने बताया कि पोलिंग स्टेशन पर दिव्यांगों के लिए खास व्यवस्था होगी. जैदी ने बताया कि इस बार प्रत्याशी को नामांकन पत्र में तस्वीर भी लगानी होगी. उत्तर प्रदेश, पंजाब और उत्तराखंड में प्रत्याशी 28 लाख रुपये खर्चा कर सकेंगे जबकि गोवा और मणिपुर में यह राशि 20 लाख रुपये रहेगी. साथ ही कहा गया है कि 20 हजार से ऊपर के खर्च को चेक से भुगतान दिया जाएगा.
चुनाव आयोग ने इस बार उन चैनल पर नजर रखने की तैयारी की है जिनमें राजनेताओं का मालिकाना हक है. चुनाव आयोग पेड न्यूज पर भी नजर रखेगा.
केंद्रीय गृह मंत्रालय पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों में तैनाती के लिए करीब 85,000 सुरक्षा कर्मी मुहैया कराएगा. इसके अलावा करीब 100 कंपनियां विभिन्न राज्यों से ली जाएंगी जिन्हें चुनाव ड्यूटी में लगाया जाएगा. इन कंपनियों में राज्य सशस्त्र पुलिस बल और इंडिया रिजर्व बटालियन शामिल होंगी. अर्धसैनिक बल की एक कंपनी में करीब 100 कर्मी होते हैं.

Free Samajwadi Smart Phone Yojana up scheme news online application form

आचार संहिता:

    आचार संहिता के तहत कोई दल या उसका प्रत्याशी कोई ऐसा काम नहीं कर सकते जो विभिन्न जातियों, धार्मिक और भाषाई समुदायों के बीच मतभेदों को बढ़ाये, घृणा और तनाव पैदा करे।
    आचार संहिता के नियम अनुसार राजनीतिक दलों की आलोचना उनकी नीतियों, कार्यक्रमों, उनकी पुरानी छवि और काम तक ही सीमित होनी चाहिए। व्यक्तिगत जीवन के किसी पहलू की आलोचना नहीं की जानी चाहिए।
    किसी भी सभा से पहले उसके स्थान और समय के बारे में स्थानीय पुलिस अधिकारियों को पूर्व सूचना देनी आवश्यक है, जिससे यातायात को नियंत्रित करने और शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए जरूरी इंतजाम किया जा सके।
    आचार संहिता के मुताबिक, जुलूस में ऐसी चीजों का प्रयोग नहीं होना चाहिए, जिनका दुरुपयोग उत्तेजना के क्षणों में हो सके।

 

क्या नहीं कर सकते हैं मुख्यमंत्री:
    आचार संहिता के अनुसार राज्य का मुख्यमंत्री कोई शासकीय दौरा नहीं कर सकते।
    किसी भी प्रकार की योजनाओं और परियोजनाओं की घोषणा नहीं कर सकते।
    किसी भी प्रकार के निर्माण, मुआवजे आदि की घोषणा नहीं कर सकते।
    सरकारी विमान और गाड़ियों का उपयोग पार्टी के प्रचार के लिए नहीं किया जा सकता है।
Download in PDF  http://sec.up.nic.in/site/Instruction_Rural/Book11.pdf
Download official Notification  http://sec.up.nic.in/site/writedata/1649.pdf

Download code of conduct in English  http://eci.nic.in/eci_main/faq/faq_mcc.pdf

Sponsored link

No comments:

Post a Comment